Sexsamachar.com
... ...

चुदक्कड लेडीज़ टेलर भाग-5 Hindi sex story

मैं लम्बे समय तक उस खूबसूरत हुस्न की परी का आनन्द उठाना चाहता था इसलिये सोचा कि उसे कपड़े पहन लेने देता हूँ पर मैनें उससे कहा “रानी, तुमने मुझे पूरी तरह से अपना दीवाना बना लिया है, ये देखो”। इतना कहते हुये मैनें उसका चेहरा अपने लिंग की तरफ़ किया और अपने एक हाथ की मुट्ठी में उसे लेकर हिलाने लगा। वह मेरे सामने नंगी खड़ी थी और तेज साँसों की वजह से उसके स्तन तेजी से ऊपर नीचे हो रहे थे। उसके निप्पल उत्तेजना के कारण सख्त होकर बाहर की तरफ निकले हुये थे।

वह अपने हाथों से अपनी योनि को ठके हुयी थी। मैनें अपने लिंग को हिलाते हुये दूसरे हाथ से उसके स्तनों को दबाते हुये उसके निप्पल पर चिंगोटी काटी और बोला “प्लीज़ अपने पति के आने से पहले मेरे इस छोटे राजा की थोड़ी सहायता कीजिये”। उसने शर्माते हुये अपना हाथ मेरे लिंग तक लाकर पूरे लिंग पर फ़िराया और फ़िर अचानक तेजी से हिलाने लगी। मैने भी उसके स्तनों को दबाना शुरू कर दिया जबकि उसने मेरे लिंग की सेवा जारी रखी। मैनें तेजी से साँसें लेते हुये बोला “ओह ज्योति, मैं वास्तव में किसी दिन तुम्हें ये सुख देकर तुम्हारा ॠण चुकाऊँगा, तुम सचमुच बहुत प्यारी और कामुक हो”।

यह सुनकर उसने अपनी गति और तेज कर दी और अपने दूसरे हाथ से मेरी गोलियों से खेलने लगी। उसके स्तनों पर से पसीना बह रहा था और उसका पूरा शरीर चमक रहा था। मैं उसी समय उसके साथ संभोग करना चाहता था पर जल्दबाजी न दिखाते इस समय केवल हस्तमैथुन का ही आनन्द उचित समझा। जल्द ही मैं कामोन्माद की चरमसीमा पर पहुँचने वाला था। मैनें उससे जमीन पर लेटने को कहा और अपना लिंग पर अपने हाथ से जोरों से धक्के मारने लगा और स्खलित होते समय अपने वीर्य की धार को इस प्रकार से दिशा दी कि एक एक बूँद उसके स्तनों और पेट पर गिरे। पूरे एक मिनट तक मेरे लिंग से द्रव बाहर आता रहा और फ़िर मैनें उस वीर्य को उसके स्तनों और पेट पर फ़ैला कर मसाज करने लगा। वह आँखें बन्द करके मसाज का आनन्द उठाती रही।

loading...

sex samachar, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Chudai ki Kahani, Gujarati sex story, Kamukta, Suck sex, antarvasna, Hindi sex kahaniya

राम लौटते हुये आधे रास्ते में अपनी पत्नी की चोट के बारे में सोच रहा था और इधर उसकी पत्नी मेरे सामने नंगी लेटे हुये मेरी मसाज़ का आनन्द ले रही थी। मैं उठा और फ़र्श पर नंगी लेटी हुयी उस प्यारी घरेलू औरत को निहारता हुआ बोला “ज्योति रानी, प्लीज़ अब उठो और कपड़े पहन लो वरना तुम्हारे पति को पता चल जायेगा कि तुमने अपने इस दर्जी के साथ क्या गुल खिलाये हैं। मैं उसके दिमाग में उसके पति के भय को जिन्दा रख कर उसे अधिक सतर्क बनाना चाहता था जिससे कि मैं लम्बे समय तक उसका भोग कर सकूँ।

यह सुनकर ज्योति उठी और अपने कपड़े लेकर जाने लगी तभी मैनें उसे पीछे से पकड़ लिया और उसकी योनि और स्तनों की मसाज करने लगा। वह अभी तक गर्म थी और स्खलित नहीं हुयी थी इसलिये फ़िर से मेरी इस मसाज़ का आनन्द लेने लगी। मैनें सोचा यह औरत वाकई में बहुत निडर है और अपने पति के आने की चिन्ता किये बगैर मुझसे संभोग के लिये तैयार है। मैने उससे कहा “ज्योति रानी, ऐसा लगता है कि तुम चाहती हो कि मैं अभी तुम्हें चोदूँ और मैं वादा करता हूँ मैं ऐसे चोदूँगा कि तुम याद रखोगी”।

तभी दरवाजे की घंटी बजी और हम दोनों डर गये। वह दौड़ कर अपने कमरे में चली गयी और दरवाज़ा अन्दर से बन्द कर लिया मैने भी जल्दी से कपड़े पहने और जाकर दरवाज़ा खोला। मेरे अनुमान सच निकला, उसका पति राम वापस लौट आया था। मुझे देखकर वह चकित हो गया और इससे पहले कि वह कुछ बोले मैं ही अपनी सफ़ाई में बोल पड़ा “मैडम ने मुझे अपने ब्लाउज़ की नाप देखने के लिये बुलाया था और वो अन्दर अपना नया ब्लाउज़ पहन कर देख रहीं हैं”।

मैने यह तेज आवाज़ में बोला ताकि ज्योति यह सुन ले। वह बाहर आकर बोली “मास्टर जी, ब्लाउज़ ठीक है, धन्यवाद”। और भोली बनते हुये राम को देखकर बोली “ओह, तुम आ गये, मैनें कहा था ना कि मैं ठीक हूँ”। मैने भी अनजान बनते हुये उन्हें नमस्ते किया और अपनी दूकान पर आने के लिये वहाँ से चल पड़ा।

loading...

अन्दर ही अन्दर वह काँप रही थी परन्तु बाहर से सामान्य दिखाते हुये वह राम के पास गयी और उसे गले लगाकर बोली “तुम बहुत अच्छे हो, मेरा कितना ख़्याल रखते हो। मुझे पता था कि मेरे मना करने के बावजूद तुम लौट आओगे मेरे लिये”। राम को अभी भी मेरे वहाँ होने और मुख्य द्वार अन्दर से बन्द होने की वजह से थोड़ा शक हो रहा था। बहरहाल अपनी पत्नी पर उसे विश्वास था इसलिये बोला “प्रिये, जब तुम घर पर अकेली हो तो इस दर्जी को अन्दर मत आने दिया करो”।

sex samachar, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Chudai ki Kahani, Gujarati sex story, Kamukta, Suck sex, antarvasna, Hindi sex kahaniya

ज्योति ने नाराज़ होने का नाटक करते हुये कहा “तुम्हारा मतलब क्या है राम? वह कितना भला है, मेरा ब्लाउज़ देने के लिये घर पर आया और तुम उसेए पर शक कर रहे हो”। राम ने रक्षात्मक होते हुये कहा “नहीं प्रिये, मैं तो बस चाहता हूँ कि तुम थोड़ा सतर्क रहा करो बस”। राम को सहज होता देख वह बोली “ठीक है जानू, आगे से मैं ध्यान रखूँगी। तुम हाथ मुँह धोकर तैयार हो जाओ, मैं तुम्हारे लिये चाय बनाती हूँ”। राम बाथरूम गया और ज्योति ने सब कुछ ठीकठाक निपटने के लिये भगवान को धन्यवाद दिया और फ़िर से मेरे साथ लिये आनन्द के बारे में सोचने लगी। वह अभी भी अन्दर गीलेपन का अनुभव कर रही थी और शीघ्र ही कुछ अन्दर डालना चाहती थी।

इसलिये उसने सोचा अभी राम के लिंग से ही काम चलाया जाय इससे वह भी खुश हो जायेगा। जैसे ही राम बाथरूम से निकला वह उससे जाकर चिपक गयी और अपने स्तनों और गर्भाशय वाले भाग से उसके शरीर पर दबाव डालते हुये बोली “राम, प्लीज़ मुझसे धीरे-धीरे और नरमी से प्यार करो, परसों रात तुम बहुत निर्दयतापूर्वक मुझे भोग रहे थे”। उसके नितम्बों को मसलते हुये राम ने पूछा “प्रिये, क्या तुम पक्का चाहती हो कि मैं तुम्हारे साथ सम्भोग करूँ क्योंकि कुछ घंटे पहले ही तुम्हें अपनी योनि में काफ़ी पीड़ा हो रही थी”। वह बोली “हाँ पर अब मैं ठीक हूँ” और पैंट के ऊपर से ही उसके आधे खड़े लिंग को सहलाने लगी। ज्योति अपने स्तनों और योनि से राम के शरीर को रगड़ रही थी और वह उसके नितम्बों को मसल रहा था। मेरे द्वारा थोड़ी ही देर पहले की गयी रति क्रीड़ा की वजह से वह पहले से ही गर्म और गीली थी और राम की मसाज उस पर और रंग ला रही थी। वह राम के लिंग को पकड़ कर बोली “राम मुझे ये अभी चाहिये”। यह सुनकर राम उत्तेजित हो गया पर साथ ही वह आश्चर्यचकित था क्योंकि ज्योति पहले सामान्यतया मूक प्रेमी ही थी। उसने उसे अपनी बाहों में उठाया और बिस्तर पर ले गया। फ़िर उसने उसकी साड़ी खींचकर उतार दी, अब ज्योति बिस्तर पर पेटीकोट और ब्लाउज़ में लेटी थी। ब्लाउज़ में उसके स्तनों के उभार बहुत ही सुन्दर दिख रहे थे और साथ ही उसकी क्लीवेज भी दिख रही थी। यह वही ब्लाउज़ था जो मैनें कल उसे सिलकर दिया था।

sex samachar, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Chudai ki Kahani, Gujarati sex story, Kamukta, Suck sex, antarvasna, Hindi sex kahaniya

राम ने ब्लाउज़ के ऊपर से ही उसके स्तनों को दबाना शुरू किया और वह अपनी आँखें बन्द किये पुनः मेरे बारे में सोचने लगी। अब उसने धीरे-धीरे उसके ब्लाउज़ के हुक खोलने शुरू किये और ज्योति को इसका आनन्द उठाते हुये देख बोला “ज्योति, तुम इस ब्लाउज़ और पेटीकोट में बहुत ही कामुक लग रही हो”।

अब उसका ब्लाउज़ पूरा खुला था और उसके भरे पूरे स्तन आज़ाद हो गये थे। राम को यह देखकर हैरानी हुयी कि उसने ब्रा नहीं पहनी थी। दरअसल राम के अचानक आ जाने पर जल्दी जल्दी में उसे ब्रा पहनने का समय ही नहीं मिला था। वह बोला “ज्योति, यह पहली बार है जब मैने तुम्हारा ब्लाउज़ खोला और तुमने ब्रा नहीं पहनी हुयी थी”। इतना कहकर उसने जोर से उसके स्तनों को दबाया और निप्पलों पर चिंगोटी काटी। उसने इस मीठे दर्द से आह भरी और निडर हो कर बोली “प्रिये, जब मैं अन्दर ब्लाउज़ पहन रही थी तो मैं तुम्हारी आवाज सुनकर उत्तेजित हो गयी और तुमसे मिलने की जल्दी में मैने ब्रा पहनना छोड़ दिया।

जल्दी ही तुम्हें पता चल जायेगा कि मैनें कुछ और भी नहीं पहना है”। अब उसने उसके निप्पलों को चूसना और दबाकर खींचना शुरू कर दिया। ज्योति के अन्तिम वाक्य को सुनकर राम ने अनुमान लगाया कि उसने पैंटी भी नहीं पहनी है और जल्दी से अपना हाथ उसके पेटीकोट के अन्दर ले गया जोकि सीधा उसकी गीली और गर्म योनि पर पड़ा। वह फ़िर बोला “प्रिये, मैनें पहले तुम्हें इतनी जल्दी कभी गीला होते नहीं देखा” और इतना कहकर उसने अपनी उंगली बलपूर्वक उसकी रसभरी योनि में डाल दी। उसे पता था कि उसका पति अपने शक की ओर इशारा कर रहा है पर इस समय वह मेरे ख़्यालों में कामोत्तेजना से ग्रसित थी इसलिये उसने अपने पति द्वारा स्तनमर्दन और हस्तमैथुन का आनन्द उठाते हुये बोला “प्रिये, दिन पर दिन तुम अपने काम में पारंगत होते जा रहे हो मैं भी और अधिक कामोत्तेजक हो रही हूँ”।

sex samachar, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Chudai ki Kahani, Gujarati sex story, Kamukta, Suck sex, antarvasna, Hindi sex kahaniya

राम को अपनी शर्मीले स्वभाव की ज्योति में निश्चय ही परिवर्तन दिखाई दे रहा था पर उसकी इन कामुक बातों से वह उत्तेजित भी हो रहा था। उसे अपनी पत्नी से सीधे शब्दों में बोलने से डर लग रहा था पर उसे पता था कि इस सबका उस दर्जी से (यानि कि मुझसे) कुछ सम्बन्ध है। अपनी पत्नी की बेवफ़ाई की बातें मन में आने की वजह से उसने बुरी तरह से ज्योति को मसलना शुरू कर दिया और उसके निप्पल को काटा। वह दर्द से चिल्लाई और बोली “ओह राम, इतनी ज़ोर से मत काटो, दुःखता है”। इतना कहकर वह राम के पैंट की चेन खोलने लगी। राम ने भी कपड़े उतारने में उसकी मदद की। उसका पूरी तरह तना हुआ लिंग एक फ़नफ़नाते हुये साँप की भाँति उसकी रसीली योनि में प्रवेश करने को बेताब था।

ज्योति राम के लिंग को अपनी मुट्ठी में लेकर बलपूर्वक उसे अपने ऊपर ले आयी और अपनी टांगें फ़ैलाकर उसके लिंग को अपने योनि मुख पर रगड़कर उसे अन्दर का रास्ता दिखाया।

इस सब के बीच वह लगातार मेरे बारे में सोच रही थी और सम्भवतः राम को भी इस बात का अंदेशा था इसीलिये उसने जोर से धक्का लगा कर अपना लिंग उसकी योनि डाला और निर्दयतापूर्वक अन्दर बाहर करने लगा। वह ऐसा जानबूझकर कर रहा था जिससे कि इस बात का पता चल जाय कि उसे वाकई में दर्द हो रहा था या फ़िर उसने झूठ बोला था। कामोत्तेजना और मेरे ख़्यालों की गर्मी में ज्योति भूल ही गयी कि उसने अपनी योनि में चोट के बारे में राम से झूठ बोला था और राम के इन जोरदार धक्कों का आनन्द उठाने लगी।

उसके दोनों स्तन भी आपस में जोरजोर से टकराते हुये हिलते जा रहे थे। इन्हें देख राम उत्तेजित तो हो ही रहा था पर साथ ही साथ उसे यह सोचकर गुस्सा भी आ रहा था कि इन्हे वह दर्जी भी दबा चुका है। ज्योति की आँखें बन्द देखकर उसने यह भी सोचा कि वह मेरे बारे सोच रही है, और वह वास्तव में सही सोच रहा था। उसे इस बात से आश्चर्य था कि ज्योति इन जबरदस्त धक्कों की वजह से अपनी योनि में दर्द की तनिक भी शिकायत नहीं कर रही थी और अब उसे विश्वास हो गया था कि उसने अपने दर्द के बारे में उससे झूठ बोला था इसलिये राम ने उसी संभोग सत्र में उसे दण्डित करने का निर्णय लिया। तभी उसने धक्के मारना बन्द करके अपना लिंग उसकी योनि से बाहर निकाल लिया और पुनः उसकी मांग का इन्तजार करने लगा।

उसके अनुमान के अनुसार ज्योति ने आँखें खोलकर उससे पूछा “तुम रुक क्यों गये, जल्दी डालकर करो ना”। जैसे ही राम ने यह सुना अपना पूरा बल एकत्रित करके उसने एक जोरदार धक्का लगाया और वह दर्द से चिल्लाई “आ…आ…आ… उ…उ…उ…छ…”पर उसने उसकी एक न सुनी और दूसरा धक्का और भी जोर से मारा।

क्योंकि ज्योति चरम सीमा के निकट थी इसलिये वह इन घातक और जोरदार धक्कों का आनन्द उठाती रही। अपने पति को पहली बार वह इतने आक्रामक अंदाज में चुदाई करते हुये देख रही थी। उसे भी अब यह लगने लगा था कि राम उस पर नाराज़ है पर इसके बारे में अधिक न सोचते हुये वह मजे लेती रही। वह मेरी हवस में इतना डूब चुकी थी कि उसने राम के गुस्से के बारे में अधिक ध्यान नहीं दिया पर यह निश्चय किया कि आगे से वह मेरे साथ सम्बन्ध बनाते समय अधिक सतर्क रहेगी और अच्छे बहाने तैयार रखेगी। राम बीच बीच में रुक कर अपने बल को पुनः संगठित करके उसे जबरदस्त धक्के दे रहा था। ज्योति इसका भरपूर आनन्द ले रही थी पर शायद उसे इस बात का अंदेशा नहीं था कि इस सब के बाद जब वह सामान्य होगी तब यह बहुत दर्द करेगा।

sex samachar, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Chudai ki Kahani, Gujarati sex story, Kamukta, Suck sex, antarvasna, Hindi sex kahaniya

राम ने अब सोचा कि उसकी योनि में पीछे से कुतिया की तरह प्रवेश किया जाय। इस समय वो ज्योति को हर मायने में एक कुतिया ही समझ रहा था। न चाहते हुये भी वह अपने दोनों पैरों और हाथों के सहारे अपने नितम्बों को हवा में ऊपर करके लेट गयी। उसके नितम्ब लटक रहे थे और दबाये जाने के लिये बेताब थे। सामान्यतया उसे इस आसन में दर्द की वजह से चुदवाना पसंद नहीं था पर राम ने अभी उसे सजा देने की सोच रखी थी इसलिये उसे इस बात से कोई फ़र्क नहीं पड़ा। वह अपनी चरित्रहीन पत्नी को घसीट कर बिस्तर के किनारे पर लाया और स्वयं नीचे खड़े हो गया। ज्योति पीछे मुड़कर राम के चेहरे पर ये वहशत और गुस्सा देख रही थी। उसने उसके नितम्बों को पहले मसला और फ़िर गुस्से से चटाचट कई चपत लगा दिये जिससे उसके नितम्ब लाल हो गये, उनके ऊपर उसकी उंगलियों के निशान साफ़ चमक रहे थे। हर चपत के साथ ज्योति एक मीठे दर्द से चिल्लाती “आ…आ…आ… ह…ह…ह…”।

फ़िर उसने अपने लिंग को पकड़ कर उसकी योनि का रास्ता दिखाया और जोरों से धक्के मारने लगा। वह बार बार कह रही थी “आ…आ…आ…ह ओ…ओ…ओ…ह राम, धीरे डालो दुःख रहा है”। वह उसने जरा भी नरमी नही दिखायी और उसे कुतिया की तरह चोदता रहा और उसके स्तनों को भी बुरी तरह से मसलता रहा। जल्दी उसे इसकी योनि और स्तनों को इस निर्दयता की आदत पड़ गयी और वह एक और कामोन्माद के लिये तैयार होने लगी। वह आँखें बन्द करके एक बार फ़िर सोचने लगी कि यह सब उसके साथ मैं कर रहा हूँ।

loading...

राम भी अब चरम सीमा के निकट था पर अभी वह स्खलित नहीं चाहता था क्योंकि अभी उसे अपनी पत्नी को और दण्डित करना था। तभी अचानक कँपकपी के साथ ज्योति स्खलित होने लगी जिसे देख उसने अपना लिंग तुरन्त बाहर खींच लिया और अपनी दो उंगलियों से उसकी योनि को रगड़ने लगा। राम की इस बात से वह आश्चर्यचकित रह गयी पर अपने कामोन्माद का आनन्द उठाती रही। इस बीच राम उसके स्तनों और निप्पलों को दूसरे हाथ से बुरी तरह से मसलता जा रहा था।

शीघ्र ही उसने महसूस किया की कामोन्माद की चरम सीमा पर पहुँचने के बाद अब वह सामान्य हो गयी है पर राम अभी तक स्खलित नहीं हुआ था उसने अपने तने हुये लिंग को पुनः उसकी योनि में डाल दिया। ज्योति यह नहीं चाहती थी पर राम के सामने वह लाचार थी। उसके हर धक्के पर उसे असह्य पीड़ा हो रही थी। राम भी स्खलित होने की कगार पर था उसने अपना लिंग बाहर निकाल कर ज्योति को सीधा किया और फ़िर अपने वीर्य का पूरा कोष उसके चेहरे और स्तनों पर खाली कर दिया। राम की इस हरकत पर भी ज्योति चकित रह गयी क्योंकि पहली बार राम ने अपना वीर्य उसकी योनि के बाहर निकाला था। उसे पता था कि राम उससे नाराज़ है और उसकी योनि में दर्द भी अब उभरने लगा था पर तब भी इस सम्भोग सत्र का उसने सर्वाधिकार आनन्द उठाया था।

(क्रमशः…)

sex samachar, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Chudai ki Kahani, Gujarati sex story, Kamukta, Suck sex, antarvasna, Hindi sex kahaniya

loading...
... ...