Sexsamachar.com
... ...

भाभी और उनकी फ्रेंड मेरे लंड की दीवानी

sex samachar Hindi sex stories, Kamukta, Antarvasna, Free Hindi sex stories, Hindi sex kahaniya, Chudai Ki kahani, Suck sex

हैल्लो दोस्तों, में एक बार फिर से आप लोगों की सेवा में हाजिर हूँ। वैसे तो आप सब लोग जानते है कि मे मेरी भाभी और उनकी 2-3 दोस्त को चोद चुका हूँ। उस दिन मैंने भाभी की दोस्त अंजली की खूब चुदाई की और हम उनके घर पर बैठकर चाय पी रहे थे कि उनका फोन बजा तो अब वो ख़ुशी से उछल पड़ी। फिर मैंने कहा कि क्या हुआ? तो उसने कहा कि मेरी कज़िन आ रही है उसे लेने जाना है, वो भी हमारे साथ में कॉलेज में थी। अब इतना कहकर वो जल्दी से बोली कि एक काम करते है, मुझे अभी जाना है और में तुम्हें कल फोन करती हूँ तो मैंने कहा कि ठीक है।

फिर 3-4 दिन तक मेरी अंजली से कोई बात नहीं हुई तो मैंने मेरी भाभी से फोन करवाया तो अंजली बोली कि मेरा देवर आज कहीं जा रहा है, में थोड़ी देर बाद तुम्हें कॉल करती हूँ। अब इतना कहकर अंजली ने फोन रख दिया और फिर लगभग 2-3 घंटे के बाद अंजली का फोन आया कि हम शॉपिंग के लिए बाहर जा रहे है, तुम मुझे मॉल में मिलो। फिर मैंने कहा कि ठीक है और फिर लगभग 2 घंटे के बाद हम मॉल में मिले, उसके साथ एक बहुत ही खूबसूरत भाभी थी और वो बहुत ही क़यामत लग रही थी। फिर उन्होंने अपना नाम पूनम बताया और फिर भाभी ने मुझे उनसे मिलवाया कि यह मेरे देवर का दोस्त है। फिर पूनम बोली कि आपकी भाभी जी आपकी बहुत तारीफ कर रही है, पूनम काफ़ी खुले विचारों वाली औरत थी और वो 4-5 साल से लन्दन में रहती थी। अब हम लोगों की काफ़ी अच्छी दोस्ती हो गयी थी और फिर हमने मॉल में काफ़ी शॉपिंग की और फिर में वहाँ से निकल गया।

loading...

अब मैंने रात को पूनम का नाम लेकर 2 बार मूठ मार ली थी और अब में उससे मिलने के लिए बैचेन था और काफ़ी टाईम हो गया था और अब अंजली भाभी को चोदने का कोई मौका नहीं मिल रहा था। फिर लगभग 2 दिन के बाद अंजली भाभी का दोबारा फोन आया और बोली कि आज हमारे साथ मूवी देखने आओगे, तो मैंने कहा कि यार कब से तुम्हारे फोन का इंतजार कर रहा हूँ, तो उसने कहा कि तुम उसी मॉल में आ जाओ जहाँ हम पहले मिलते थे। फिर लगभग 2 बजे हम मॉल में मिले और फिर मैंने अंजली से कहा कि कितने दिन हो गये यार तुम्हें अपना लंड चुसवाये, कुछ जुगाड़ करो ना। फिर अंजली बोली कि यार जब से मेरी दोस्त आई है तब से मेरा देवर कही बाहर जाता ही नहीं है और मेरी दोस्त पूनम के साथ वो दिन में 2-3 बार चुदाई करता है।

फिर मैंने कहा कि क्या यार? इस दूसरे देवर का भी कुछ ध्यान रखो। फिर अंजली बोली कि मैंने उससे तेरी बात की है और मुझे पता है कि वो मना नहीं करेगी, लेकिन यार ये मेरे घर पर ही संभव होगा। हम पूनम की बात कर रहे थे कि तभी पूनम कुछ शॉपिंग करके स्टोर में से बाहर आई और उसके साथ अंजली भाभी के देवर भी थे। फिर वो मुझे देखकर बोली अरे यार तुम यहाँ क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि यार में यहाँ मूवी देखने आया था और यहाँ पर भाभी को देखा तो उससे बात करने लगा। अब पूनम ने मेरे सामने देखकर स्माइल दी और ऐसे बर्ताव किया कि जैसे वो मुझसे पहली बार मिल रही है। फिर अब मुझे मालूम हुआ कि अंजली भाभी ने ही उसे मना किया होगा कि उसके देवर के सामने मुझे नहीं जानती ऐसे बर्ताव करना है। फिर अंजली बोली कि चलो सब साथ में नाश्ता करते है और अब हम साथ में रेस्टोरेंट में गये। अब भाभी का देवर ऑर्डर करने के लिए काउंटर पर गया और अब हम साथ में बैठकर बात कर रहे थे।

sex samachar Hindi sex stories, Kamukta, Antarvasna, Free Hindi sex stories, Hindi sex kahaniya, Chudai Ki kahani, Suck sex

फिर मैंने कहा कि भाभी कुछ करो ना यार, तो अंजली बोली कि पूनम को मेरा देवर काफ़ी पसंद आ गया है। फिर पूनम बोली कि मुझे तो तुम्हारे सारे देवर पसंद है। अब मुझे उसकी बातों से लगा कि वो बहुत ही चालू और सेक्सी औरत है। तभी मैंने उसका हाथ पकड़ कर कहा कि कुछ हमारा भी ध्यान रखो। तभी अंजली बोली कि मेरा देवर 2-3 घंटे के लिए कही जायेगा तो तुम्हारा कुछ काम होगा। फिर पूनम ने कहा कि उसे भी साथ में बुला देते है और ज़ोर से हंस पड़ी। तभी अंजली बोली यार अगर मेरे देवर को पता चला कि में उसके साथ चुदवाती हूँ तो मेरा घर में रहना मुश्किल हो जायेगा, प्लीज यार। तभी पूनम बोली एक काम करती हूँ, में तुम्हारे देवर को बाहर भेजने का प्लान करती हूँ और फिर हम कुछ देर तक ऐसे ही बात करते रहे।

फिर हम सब नाश्ता कर रहे थे कि तभी पूनम भाभी अंजली के देवर राज से बोली कि अरे राज मेरा एक छोटा सा काम है, क्या तुम करोगे? फिर राज ने कहा कि अरे पूनम भाभी आपके लिए तो जान भी हाजिर है। फिर पूनम बोली कि मेरी फ्रेंड मेरे लिए कुछ कपड़े लाई है, क्या तुम अभी जाकर ले आओगे? तो राज ने कहा कि ज़रूर तो अब अंजली भाभी ने मेरे पैर पर अपना पैर दबाया। फिर पूनम भाभी बोली में उनका एड्रेस आपको देती हूँ तुम वहाँ पहुँच कर मुझे कॉल करना। फिर राज ने कहा कि ठीक है, अब इतना कहकर राज ने कहा कि तुम मेरी भाभी को घर पर छोड़ देना में आधे घंटे में पहुंचता हूँ, तो मैंने कहा कि ठीक है। फिर इतना कहकर राज गाड़ी लेकर पूनम की दोस्त के घर के लिए निकल गया और में अंजली भाभी और पूनम भाभी मुस्कुराते हुए उसे गाड़ी तक छोड़ने गये। अब वो जैसे ही निकला तो हम तीनों ज़ोर- ज़ोर से हँसे और फिर मैंने कहा कि पूनम भाभी थैंक्स यार, तो उसने एक सेक्सी स्माइल दी और बोली कि तुम दोनों का मैंने काम कर दिया, अब चलो जल्दी घर चलो। अब हम सब अंजली भाभी के घर पर बैठे थे, तो पूनम बोली तुम लोग मज़े करो और में अन्दर बैठती हूँ।

loading...

तभी अंज़ली बोली कि अरे यार मेरा देवर आ गया तो हमें बहुत परेशानी होगी और मेरा घर से निकलना भी बंद हो जायेगा। तभी पूनम भाभी ने अपनी दोस्त को फोन किया और बोली कि कोई लड़का तुम्हारे यहाँ मेरे कपड़े लेने आ रहा है, जैसे ही वो तुम्हारे घर पहुँचता है तो तुम मुझे कॉल करना। फिर थोड़ी देर में पूनम भाभी कि दोस्त का फोन आया तो पूनम ने फोन पर उसको सब समझा दिया कि उसे क्या बोलना है? उसको बोलना कि कपड़े सही होने के लिए दिए है और 1-2 घंटे के बाद टेलर के वहाँ लेने जाना है, ऐसा कहकर तुम अपने यहाँ उसे 2-3 घंटे तक बैठाना और जब वो वहाँ से निकल जाए तो तुरंत मुझे फोन करना, अब उसकी दोस्त ने कहा कि ठीक है। फिर पूनम बोली लो अब तुम्हारा देवर मेरी दोस्त के घर पर है और अब तुम मज़े करो, में अन्दर बैठती हूँ। फिर जैसे से ही पूनम दूसरे रूम में गयी तो में दरवाजा बंद करके उसको चूमने लगा। अब अंजली बोली शांति से करो यार, फिर मैंने कहा कि नहीं बहुत दिनों के बाद तुम्हारे इन बड़े-बड़े बूब्स को चूस रहा हूँ।

अब उसका हाथ मेरे लंड के ऊपर था और वो मेरे लंड को ज़ोर-ज़ोर से हिला रही थी। फिर वो तुरंत मेरे ऊपर बैठकर मेरे लंड को ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी और अब वो मेरा पूरा लंड अपने मुँह में लेकर ज़ोर-ज़ोर से चूस रही थी। अब हम दोनों अपनी मस्ती में थे और तभी पूनम रूम से बाहर आई तो उसको पता नहीं था कि हम हॉल में ही चुदाई कर रहे थे। अब अंजली भाभी ने मेरा पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया था, फिर वो एकदम से आई और बोली कि क्या यार तुमको शर्म है या नहीं, तो में थोड़ा शरमाया। फिर अंजली बोली कि तुम तो रोज मेरे सामने ही चुदवाती हो, तो तुमसे कैसी सी शर्म? अब इतना कहकर वो फिर से मेरे लंड को चूसने में लग गयी और पूनम भाभी अपने रूम की और चली गयी। फिर मैंने भाभी को इशारे में बताया कि पूनम से बोलो कि कंपनी दे। तभी भाभी ने ज़ोर से चिल्लाते हुए कहा कि पूनम तुम्हारा देवर अकेला पड़ रहा है उसे कंपनी चाहिए। फिर पूनम रूम से बाहर आई और बोली कि किसे कंपनी चाहिए? तो मैंने कहा कि मुझे चाहिए।

loading...

फिर उसने कहा कि तुम अभी बच्चे हो तो मैंने कहा कि ट्राई कर लो। तभी अंजली बोली कि कर लो फिर ऐसा मौका नहीं मिलेगा। फिर मैंने हाथ बढ़ाकर उसे बुलाया तो उसने कहा कि रहने दो बाद में कभी। फिर अंजली ने उसका हाथ पकड़कर खींचा और उसके बाजू में बैठा दिया। अब मेरे सामने 2 सेक्सी लेडीस अपना मुँह खोले खड़ी थी। फिर अंजली अपने मुँह से मेरा लंड निकालकर पूनम के मुँह की और ले गयी। फिर पूनम ने एक ही झटके में पूरा लंड उसके मुँह में ले लिया और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी, कभी अंजली मेरे लंड को अपने मुँह में लेती तो कभी पूनम मेरे लंड को अपने मुँह में ले रही थी। तभी अंजली भाभी बोली कि तुमसे चुदे हुए बहुत दिन हो गये है, आज मेरी गांड और चूत दोनों अपने पानी से भर दो। अब भाभी अपनी पूरी चूत फैलाकर मेरे लंड को अपनी चूत में डलवा रही थी और उसकी चूत काफ़ी गीली हो गयी थी।

अब में काफ़ी ज़ोर-ज़ोर से उसको चोद रहा था और अब में बीच-बीच में पूनम की चूत में भी अपना लंड डाल देता था, पूनम भाभी भी एक नंबर की चुदासी औरत थी। फिर पूनम भाभी ने कहा कि तुम अभी तुम्हारी भाभी की चुदाई करो, में दूसरी बार में चुदवाउंगी। अब वो भी पूनम भाभी की चूत में उंगली डाल-डाल कर उसे एक साथ 2 लंड का मज़ा दे रही थी। अब मैंने अंजली भाभी को उल्टा करके अपनी उंगली को उनकी गांड में डाल दिया था और अब वो ज़ोर-ज़ोर से अपनी गांड हिला-हिलाकर मेरा लंड ज़्यादा से ज़्यादा अन्दर लेकर चुदवा रही थी। अब पूरे हॉल में फच फच की आवाज़ आ रही थी। अब मेरा निकलने वाला था तो मैंने कहा कि कहाँ निकालूं? तो भाभी बोली कि तुम्हारा लंड मेरी गांड में से निकाल कर मेरी चूत भर दो। फिर मैंने भाभी को ज़ोर-ज़ोर से चोदकर अपना सारा पानी भाभी की चूत में डाल दिया और कुछ देर तक उनके ऊपर ही पड़ा रहा। फिर दूसरी बार में मैंने पूनम भाभी को चोदा ।।

धन्यवाद …

sex samachar Hindi sex stories, Kamukta, Antarvasna, Free Hindi sex stories, Hindi sex kahaniya, Chudai Ki kahani, Suck sex

loading...
... ...